Mohabbat

"Mohabbat bhi Zindagi ki tarah hoti hai
Har mod asaan nehi hota, har mod pe khushiya nehi milti.
Jab hum zindagi ka saath nehi chhodte toh
Mohabbat ka saath kyun chhode??
---Mohabbatein

2019-12-07

Tadap(तड़प)---283




देखे थे जो ख्वाब साथ मिलकर
उसे पूरा कर आना एक आदत सी बन गई है 

हर रात यादों के सफर पे निकलना
एक आदत सी बन गई है 

यह तनहाई का असर है या
मेरे दिल की आरज़ू पता नही 

लोग इसे पागलपन कहते है 




पर लगता तो है 

उनसे मोहब्बत करना
मेरी आदत सी बन गई है II








2019-12-06

Tadap(तड़प)---282






नाकामयाब रही मेरे मोहब्बत
कहते है लोग
एक बेवकूफ आशिक़ हूँ में 


हाँ यह सच है दोस्तों
पर नतीजा इतनी भी बुरी नही 


अब लोगो के खुशियों मे मजूद रहू ना रहू
उनके ग़म और मुसीबतों मे
साथ ज़रूर निभाता हूँ में II









2019-12-05

Tadap(तड़प)---282


अक्सर सोचता हूँ
यह जो फासला है तेरे मेरे दरमिया
इसे हमेशा के लिए मिटा दूँ 


तू रहे हमेशा मेरे नज़र के सामने
हर पल हर लम्हा देख सकु तुम्हें
कुछ ऐसा कर जाऊँ 












बरसो से तरस रही है आंखे तेरे दीदार को
कुछ करू ऐसा के
तू चाहे भी तो मेरी नजरों से दूर ना हो 


मेरे दिल की सुकून थी तू
वो सुकून दिल को फीर वापस दे दु 



अक्सर सोचता हूँ
क्यूँ ना
आसमान का एक तारा बन जाऊँ II










2019-12-04

Tadap(तड़प)---281


खुद की नज़र मे खुद को गीरा दिया मेंने
आज खुद को बेवफा साबित कर दिया मेंने 

बरसो  से संभाल के रखे थे तेरे जो खत
तेरी जो तसबीर हर रोज़ देखा करते थे 

आज सब  कुछ जला कर राख़ कर दिया मेंने 






तू याद ना आए ये मुमकिन नही
तेरी वफा को भुला दूं इतनी ताकत तो नाही 

जानता हूँ शराबीओ से नफरत है तुझे 

बस इसी लिए 

शराब का बोतल उठा लिया मेंने II








2019-12-03

Tadap(तड़प)---280


कभी एक हाथ शराब
एक हाथ सियाही थमा कर देखो 

कोई बड़ी शायर तो नही बन जाएंगे
पर दिल के कुछ ऐसे अलफाज लिखेंगे के 

तुम भी कहोगे  
इंसान बड़ा दिलजला था II

2019-12-02

Tadap(तड़प)---279





अब आंसुओं को छुपाना सीख लिया है मेंने
होठों पे झूठी मुसकान रखना सीख लिया है मेंने 

कभी कहीं मिले तू मुझसे तो 

बेवफा समझे 

ऐसी हर एक अदा सीख लिया है मेंने II